• Last Modified: शुक्रवार 12 जुलाई 2024.



 

श्री आशीष बंसल कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक तथा सीईओ हैं। उन्होंने थापर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की डिग्री तथा पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज, चंडीगढ़ से स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा प्राप्त किया है।

वे 1989 बैच के भारतीय रेल इंजीनियर सेवा (आईआरएसई) के हैं। वे वर्तमान में रेलवे बोर्ड में प्रिंसिपल एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर ट्रैक (एमएंडएमसी) के पद पर भी कार्यरत हैं। रेलवे में उनके पास 34 वर्षों से अधिक का समृद्ध और विविध अनुभव है, खासकर ट्रैक, स्टेशन, पुल आदि जैसी रेलवे परियोजनाओं के निष्पादन और प्रबंधन में। इससे पहले, वे धनबाद डिवीजन के डिवीजनल रेलवे मैनेजर के पद पर तैनात थे। उनके नेतृत्व में, माल लदान और माल ढुलाई आय क्रमशः 171.30 मीट्रिक टन और 21902 करोड़ रुपये के साथ भारतीय रेलवे के सभी डिवीजनों में सबसे अधिक थी। मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों की समयपालनता 90% के लक्ष्य के मुकाबले 93.38% थी। यह बुनियादी ढांचे के विकास की आवश्यकता को पूरा करने और उचित रखरखाव सुनिश्चित करने के लिए समग्र तरीके से हासिल किया गया था।

उन्होंने डीएमआरसी में मुख्य परियोजना प्रबंधक के रूप में भी काम किया है, जहां वे लाइन 7 पर कार्यों के निष्पादन के लिए जिम्मेदार थे, जिसमें 8 स्टेशन और 15.27 किमी बोर सुरंग के अलावा कट और कवर और खुले रैंप शामिल थे। इस परियोजना की कुल लंबाई 11.879 किमी थी। इसके अलावा, एम्स अस्पताल को ट्रॉमा सेंटर से जोड़ने वाले एक हिस्से के निर्माण के लिए जमा कार्य, जिसमें मौजूदा राजस्व लाइन (सुरंगों के बीच निकासी केवल 800 मिमी थी) पर एक सुरंग का निर्माण भी शामिल था, को भी संतोषजनक ढंग से पूरा कर लिया गया। इसी तरह, आईएनए स्टेशन पर एक अन्य कार्य में मौजूदा राजस्व सुरंगों के ऊपर स्टेशन का निर्माण शामिल था। यमुना बेसिन में सुरंगों के बीच क्रॉस मार्गों के निर्माण के कारण यह परियोजना और भी चुनौतीपूर्ण थी।

उन्होंने मई 2015 में क्रोएशिया के डबरोवनिक में आयोजित विश्व सुरंग सम्मेलन में एक पेपर भी प्रस्तुत किया था, जिसमें मौजूदा राजस्व सुरंग के ऊपर आईएनए में नए स्टेशन के डिजाइन और निर्माण पर प्रस्तुति दी गई थी।

इसके अलावा, उन्होंने रेलवे में मुख्य ट्रैक इंजीनियर, मुख्य इंजीनियर, ट्रैक मशीन आदि जैसे कई महत्वपूर्ण और चुनौतीपूर्ण पदों पर कार्य किया है।

-